सरोगेसी

सरोगेसी क्या होता है ? जानिए सरोगेसी प्रक्रिया के पहलु के बारे में

Last Updated on

आज का हमारा यह टॉपिक बड़ा महत्वपूर्ण  विषय पर है | जोकि सरोगसी क्या होता है ? दोस्तों सरोगसी को सीधा और सरल भाषा में करें तो सरोगसी किराए की कोख कहलाया जाता है इसे स्थानापन्न मातृत्व भी कहते है , इसमें जो माता-पिता अपनी संतान को पैदा करने में असमर्थ होते हैं, वह लोग सरोगसी करना पसंद करते हैं |  सरोगेसी यानि की अपनी संतान किसी और महिला की कोख से पैदा करना | कई सारे विवाहित दांपत्य अपने बच्चे को पैदा कर नहीं सकते हैं |

बच्चा पैदा करने के लिए जब कोई माता असक्षम होती है, यानी उस  महिला का यूट्रस डैमेज हो तो वह बच्चे को पैदा नहीं कर सकती है, और बाकी कई अन्य कारण हो सकते हैं, कि वह और किसी ने तरीके से गर्भधारण नहीं कर सकती है |

दूसरा कारण है कोई पिता के शुक्राणु इतने ताकतवर नहीं होते हैं कि वह किसी बच्चे को अपने बीवी के पेट में गर्भ धारण करने के लिए उपयुक्त हो | संतान प्राप्ति न होने का कारन पिता भी हो सकता है |

सरोगेसी प्रक्रिया क्या होती है ?

सरोगेसी प्रक्रिया
सरोगेसी प्रक्रिया

सरोगेसी प्रक्रिया यह तब की जाती है , जब कोई मां अपनी गर्भधारणा नहीं कर सकती है | गर्भधारणा ना होने के कई सारे कारण है, जैसे कि गर्भाशय असक्षम हो जाता है |

ऐसे वक्त वह लोग एक किराये की कोख अपनाते है , जिसमे पति अपने शुक्राणु को निकालकर डॉकटर के पास देता है | और फिर बीवी अपना अंडाशय के सेल्स देती है | फिर डॉक्टर उन्हें एकसाथ मिलाकर | उस औरत के योनी में याने किराये पर लिए हुए महिला के गर्भाशय में डालते है | और ९ महीनो तक उस औरत की देखभाल करते है | जब ९ महीने बाद बच्चा पैदा होता है , तो वह बच्चा वो महिला उनके असली माँ बाप को सोप देती है |

सरोगेसी प्रक्रिया यह एक कॉन्ट्रैक्ट होता है बच्चे को पैदा करने का | जिसमे किसी महिला को बच्चा पैदा करने के बदले उसे पैसे देते है | और ९ महीनो तक उसकी देखभाल करते है |

और यह सरोगेसी कॉन्ट्रैक्ट डॉकटर और असली माँ बाप और बच्चा पैदा करके देने वाली महिला के बिच में होता है | उसमे साफ लिखा होता है , की बच्चा पैदा होने के बाद पैदा करने वाली महिला का उससे किसी भी तरीके से संबंध नहीं होता है |

सरोगसी तकनिक का इस्तेमाल कब किया जाता है ?

सरोगसी तकनिक का इस्तेमाल
सरोगसी तकनिक का इस्तेमाल

सरोगेसी तकनीक का इस्तेमाल तब किया जाता है , जब विवाहित दांपत्य किसी बच्चे को पैदा करने में समर्थ नहीं होते है |

और बाकि ऐसे बहुत सारे पुरुष है, जिन्होंने शादी नहीं की है, लेकिन बच्चा चाहते अपनी पीढ़ी चलाने के लिए , या अपना बिजनेस चलाने के लिए | वह व्यक्ति अपने शुक्राणु सरोगेट महिला को देकर उससे अपना बच्चा पैदा कर सकते है |

भारत में सरोगेसी से माँ बनना संभव है ?

भारत में सरोगेसी से माँ बनना
भारत में सरोगेसी से माँ बनना

जी हा भारत में ही सरोगेसी तकनीक से माँ बनना संभव है | भारत में सरोगेसी तकनीक से  मां बनाना आसान प्रक्रिया कर दी गई है | और इस प्रक्रिया में लगने वाले पेसे भी कम लगते  है | एक बच्चा पैदा करने का भारत में १० से २५ लाख रूपए तक का खर्चा लगता है |

सरोगेसी तकनीक से औरत को क्या नुकसान हो सकता है ?

सरोगेसी तकनीक
सरोगेसी तकनीक

सरोगेसी तकनीक से और ज्यादातर नुकसान नहीं होता है | क्योंकि यह तक पूरी तरीके से सेफ रहती है |

लेकिन इसमें बच्चा पैदा करते वक्त दर्द होता है , जो नार्मल दिलिवेरी में भी होता है | उस वक्त औरत को तकलीफ होने जी संभावना होती है और बच्चा घर्भाशय में रहते वक्त भी छोटी मोटी बीमारी होने की सम्भावना होती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *