रुद्राक्ष पहनने के फायदे और नुकसान

Must read
कैसे करे
कैसे करे
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? क्या आप जानते है रुद्राक्ष पहनने के फायदे क्या है? आज हम ऐसे ही कुछ अलग विषय पर बात करने वाले हैं। यह हमारी भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिकता के बारे में है। हमारे देश की संस्कृति दुनिया भर के देशों से बहुत अलग है। हमारे देश में देवी-देवताओं, भगवान को बहुत ही पूजनीय माना जाता है। यहां पर भगवान की भक्ति की जाती है और उसी भगवान के भक्ति के स्वरूप अलग-अलग होते हैं। कोई हाथों में मौली का धागा पहनता है, कोई गले में रुद्राक्ष की माला पहनता है, कोई तुलसी की माला पहनता है, कोई व्रत रखता है, होम हवन, जाप, पूजन करता है और यह सब भक्ति के अलग अलग स्वरूप है।

आज हम बात करेंगे रुद्राक्ष के पहनने से होने वाले नुकसान और फायदे के बारे में। साथ ही में  हम बात करेंगे उसको धारण करने के बाद और पहले पाए जाने वाले नियमों के बारे में। भगवान शिव को पूरे जगत के आराध्य दैवत माना जाता हैं, क्योंकि वह आदिनाथ है। रुद्राक्ष भगवान शिव का ही स्वरूप है। रुद्राक्ष का अर्थ है रुद्र- भगवान शिव और अक्ष- नेत्र मतलब भगवान शिव के नेत्र।

रुद्राक्ष की उत्पत्ति

भारतीय अध्यात्मिक कथाओं के अनुसार, प्रजापति दक्ष ने एक बड़ा यज्ञ किया और उसमें अपनी पुत्री सती और भगवान शिव का अपमान किया। माता सती खुद आदिशक्ति थीं और उन्होंने अपमान सहन ना होने की वजह से आत्मदहन कर लिया। भगवान शिव उनके शव को देख कर काफी दुखी हुए और उनका शव गोद में उठा इधर उधर भटकने लगे। माता सती के शव के ५१ टुकड़े होकर अलग अलग जगह गिर पड़े और ५१ शक्तिपीठ प्रस्थापित हो गए।

भगवान शिव उसके बाद घोर समाधि में लीन हो गए। उसकी वजह से जगत में हाहाकार मच गया। इसीलिए सभी देवों ने उनकी स्तुति की और भगवान शिव की समाधि भंग हो गई। माता सती की याद में वह फिर से दुखी हो गए और उनकी आंखो से आंसू छलकने लगे। जहां जहां उनके आंसू गिरे, वहां वहां रुद्राक्ष के पेड़ उग आए।

रुद्राक्ष पहनने से पहले और बाद के नियम

आजकल के युग में हर कोई फैशन की तौर पर, बिना उसके नियम जाने रुद्राक्ष पहन लेते हैं। भले आप भगवान में विश्वास रखें या नहीं, रुद्राक्ष पहनने से पहले उसके नियम के बारे में जान लेना चाहिए और उसका सम्मान करना चाहिए।

रुद्राक्ष एक से लेकर चौदा मुखी होते हैं। इन सभी रुद्राक्ष के अलग अलग महत्व होते हैं। रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति ने मदिरापान, मांस का सेवन नहीं करना चाहिए। माहवारी के दौरान स्त्री को रुद्राक्ष नहीं पहनना चाहिए, काले धागे में रुद्राक्ष ना पहनें। अगर आप पहली बार रुद्राक्ष धारण कर रहें है तो सोमवार के दिन ही पहनें। रुद्राक्ष को अगर पूरे नियमों के अनुसार पहने तो उसके बहुत सारे अच्छे फायदे होते हैं। लेकिन अगर आप नियमों का पालन किए बिना पहने तो उसके बहुत नुकसान भी होते हैं।

रुद्राक्ष धारण करने के फायदे – रुद्राक्ष पहनने के फायदे

जैसे कि हमने देखा रुद्राक्ष नियमों के अनुसार पहने तो इंसान को उसके चमत्कारिक फायदे का अनुभव मिलता है। सारे चौदह मुखी रुद्राक्ष से अलग अलग कामनापूर्ती के लाभ मिलते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि रुद्राक्ष पहनने के कई लाभ हैं। यहां तक कि विज्ञान ने भी इस चीज को माना है।

रुद्राक्ष धारण करने के बाद हमें अनन्य शांति का अनुभव होता है। हमारा दिमाग और मन शांति महसूस करते हैं। हमारे दिमाग में आनेवाले दूषित तथा नकारात्मक विचारों को नियंत्रण मिलता है। हमारे शरीर में नई ऊर्जा प्रदान करता है। हम हमारे जीवन की तरफ अलग नजरिए से देखने लगते हैं। हम जीवन को प्यार करने लगते हैं।

हम अगर कोई मानसिक तनाव और बीमारी से गुज़र रहे हैं, तो रुद्राक्ष धारण करने के बाद आप काफ़ी अच्छा और तनावमुक्त महसूस कर सकते हो। आपके वैवाहिक जीवन में कोई समस्या आ रही है, तो आप भी रुद्राक्ष का धारण कर सकते हैं और उसका अनुभव ले सकते हैं। हमारा जीवन एक नए तरीके से जी सकते हैं।

रुद्राक्ष धारण करने के नुकसान

जैसे कि हर एक चीज़ के फायदे होते हैं, वैसे ही उसके नुकसान भी होते हैं। रुद्राक्ष के जैसे अनेकों फायदे होते हैं, वैसे ही उसे अगर बिना नियमों के अनुसार पहने तो उसके भारी नुकसान भुगतने पड़ सकते हैं। रुद्राक्ष के नुकसान के अनेक कारण हो सकते हैं। जैसे कि, रुद्राक्ष पहनने के बाद उसके नियम का पालन ना करना, गलत मुखी रुद्राक्ष धारण करना आदि।

आप अगर रुद्राक्ष पहनना चाहते है तो उसके पहले और बाद में के नियमों के बारे में ज़रूर जान लें। धारण करने के बाद उसके नियमों का योग्य पालन करे। बिना नियमों के तहत रुद्राक्ष धारण करने से विपरीत परिणाम होते हैं। मनुष्य मानसिक तनाव और अस्थिरता की और बढ़ने लगता। पूरे जीवन में अस्थिरता महसूस होती है। उस मनुष्य का जीवन पथभ्रष्ट हो जाता है। हमारे मन में बुरे ख्याल, नकारात्मक विचार छा जाते हैं।

रुद्राक्ष पहनने के फायदे और नुकसान
रुद्राक्ष पहनने के फायदे और नुकसान

दोस्तों, हमारी संस्कृति का हमें सम्मान करना चाहिए और वैसा करके हम रुद्राक्ष का सही नियमों के अनुसार धारण करें। रुद्राक्ष धारण करने से होने वाले अच्छे बदलाव और फायदों का लाभ उठाएं। धन्यवाद।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी जानकारी :
error: Content is protected !!