Home » चेहरे की देखभाल » मुंह का इलाज » दांतों का इलाज » रूट कैनल ट्रीटमेंट क्या होती है ? क्यों करना चाहिए दांतों की ट्रीटमेंट ?

रूट कैनल ट्रीटमेंट क्या होती है ? क्यों करना चाहिए दांतों की ट्रीटमेंट ?

रूट कैनल ट्रीटमेंट

आज का हमारा विषय है रूट कैनाल ट्रीटमेंट के बारे में, जो कि आज दुनिया में 100 लोगों में से 60 लोगों में किया जा रहा है और यह उनकी जरूरत बनती जा रही है |  दोस्तों रूट कैनल ट्रीटमेंट यह हमारे दांतो के संबंधित छोटा सा ऑपरेशन होता है | जिसके बारे में हम आज आपको बताने वाले हैं |

दोस्तों आजकल के लोग भाग दौड़ में दातों की देखभाल करना  भूल गए हैं, कोई भी चीज किसी भी प्रकार से वह लोग खा लेते हैं और खाने के बाद दातों को साफ करना भूल जाते हैं या जानबूझकर वह साफ नहीं करते हैं | तो ऐसे में उन लोगों की दांत बहुत गंदे हो जाते हैं खराब हो जाते हैं और उस जगह काफी सारे बैक्टीरिया से उत्पन्न हो जाते हैं और फिर वह कीड़े दातों को कुरेदना शुरू कर देते हैं और कुर्ते कुर्ते वह दातों के जड़ तक पहुंच जाते हैं | फिर उस वक्त हम लोगों को दांत दर्द होने की परेशानी होने लगती है | और उस वक्त हम डॉक्टर की मदद लेते हैं | तो ऐसे में डॉक्टर रूट कैनल करने की सलाह देते हैं | तो असलियत में रूट कैनल ट्रीटमेंट क्या होता है इसके बारे में हम आपको आगे की जानकारी में बताने वाले हैं | तो चलिए बढ़ते हैं आगे की जानकारी की ओर |

रूट कैनल ट्रीटमेंट क्या होता है ? Root Canal Treatment in Hindi:

किसी कारण आपके दांत खराब हो गए हैं जैसे कि दांतों में कीड़े पड़ गए हैं, या फिर किसी एक्सीडेंट में आपके दांत टूट गए हैं ,  या दातों में किसी प्रकार का गड्ढा हो गया है | तो डॉक्टर रूट कैनल करने की सलाह देते हैं | रूट कैनल करना यानी कि टूटा हुआ दांत में कीड़े पड़े हुए जगह को साफ करते हैं |  जिससे दातों के भीतर में एक गड्ढा हो जाता है फिर उस गड्ढे को बुझाने के लिए डॉक्टर कैप लगाने की सलाह देते हैं, उसे रूट कैनल कहते हैं |

रूट कैनल यानी कि हमारे दांतो की जो जड़ होती है, वहां तक हमारे दांतो की नसें गई हुई होती है |  जिसे कैनल कहते हैं वह एक होलो पाइप की तरह होती है | इसीलिए उसे केनाल का नाम दिया गया है | तो उस चैनल को कुरेद कर वहां से सारा बैक्टीरिया बाहर निकालकर उस जगह पर क्याप लगाते हैं | जिससे आगे चलकर वहां पर फिर से बैक्टीरिया और कीड़े ना हो |  तो इस प्रक्रिया को रूट कैनल ट्रीटमेंट कहते हैं, जिससे दांतों के जड़ों को बचाया जाता है | और दातों को भी शहद में रखा जाता है |

रूट कैनल ट्रीटमेंट करने पर दर्द होने पर घरेलू उपाय : Root canal treatment pain:

दोस्तों रूट कैनल ट्रीटमेंट करने के बाद भी अगर आपका दांत दर्द करते हैं तो आपको हम कुछ घरेलू उपाय बता रहे है जो आपको जरुर काम आएँगे –

  • आपको फिटकरी लेकर उसे बारीक पीस लेना है और उसे सादे पानी में मिलाकर उस पानी का कुल्ला करें |  आपको उस पानी से कुल्ले करते रहना है जब तक आपके दांत का दर्द नहीं निकल जाता |
  • दूसरा उपाय यह है आपको  लौंग लेकर उसे बारीक पीस लेना है |  और उस पिसे हुए पाउडर को आप आपके दातों पर लगा सकते हैं जहां भी आपका दांत दर्द कर रहा है उस जगह पर डायरेक्ट उस पाउडर को लगा दे | लौंग  में आयुर्वेदिक तत्व होने के कारण वह उस दांत के दर्द को तुरंत बंद कर देता है |
  • लहसुन और नमक को एक साथ पीसकर आप बातों पर उसकी पेस्ट लगा सकते हैं जिसके कारण लहसुन में एंटी पेन किलर के  तत्व होते हैं | उसी से आपके दांत दर्द होना बंद हो जाता है |
  • अमृद के दो से तीन पत्ते लेकर उन्हें अच्छे से बारीक पीस लें |  और पीस लेने के बाद आपका दांत जिस जगह पर दर्द कर रहा है उस जगह पर उस पत्ते का पाउडर या पेज को आपने लगाना है जिससे आपको तुरंत राहत मिल जाती है |
  • गर्म पानी में नमक को मिलाकर उस पानी से अगर आप कुल्ले करते हो जो आपका दर्द आसानी से निकल जाता है |

रूट कैनल करके दातों को निकालने से क्या नुकसान होते हैं ? Root canal karke danto ko nikalna:

दोस्तों सबसे पहली बात आपको बता दें कि कभी भी रूट कैनल करके दातों को नहीं निकाले क्योंकि ओरिजिनल चीज़ निकालकर डुप्लीकेट चीज लगाते हो तो वह ओरिजिनल चीज़ की तरह काम नहीं करती है |  जैसे कि अगर आपकी दो आंखों में से एक आंख दर्द कर रही है तो इसका यह अर्थ नहीं है कि उस आपको ही निकाल दे और नई आग बिठा ले |  अगर दर्द कर रही है तो उसको आप सुधार सकते हैं और फिर से पहले जैसा बना सकते हैं | उसी प्रकार से आपको दांत को रूट केनाल के जरिए साफ करके उसे अच्छा रखना जरूरी है | जो नेचुरल तरीके से आपके मुंह में आया हुआ है वह आसानी से काम कर सकता है | आप रूट केनाल के जरिए दांतो को अंदर  से साफ कर सकते हैं | और वहां क्याप बैठा सकते हैं, अगर आप रूट कैनल कर के दांत निकालते हो तो आप को सबसे बड़ा नुकसान साबित होते हैं | जैसे कि आप अगर आपका ओरिजिनल दांत निकाल देते हो और उस जगह पर नकली दांत लगाते हो | तो आपको खाना चबाने के लिए बहुत परेशानी आ सकती है  और आपके दांतों की नसों में दर्द होने लगता है |  दांत निकालने के बाद जो उस दांत के इर्द-गिर्द रहने वाले दांत होते हैं उन दातों की सेटिंग बिगड़ जाती है और उस कारण वह तेरे हो जाते हैं और दर्द करने लगते हैं |

कई बार खाना खाते वक्त दातों में से ब्लड निकल जाता है | और रूट कैनल करके निकाला हुआ दांत की जगह पर सूजन आ जाती है | रूट कैनल करने के बाद आप कभी भी ठंडी चीजें नहीं खा  सकते हैं | क्योंकि वह ठंडा पदार्थ आपके दातों के होल से सीधा आपके दांतों की जड़ में पहुंच जाता है और उससे आपके दातों में सनसनाहट होती है | इसीलिए कभी भी रूट कैनल कर के दांत निकालना अच्छा साबित नहीं होता है |

रूट कैनल करने के लिए कितना खर्चा लगता है ? Cost for root Canal in Hindi:

दोस्तों वैसे तो साधारण रूप से देखा जाए तो रूट कैनल करने के लिए 15 से 20 हज़ार तक  का खर्चा आता है | लेकिन कई बार यह खर्चा आपके दांत के रूट कैनल पर निर्भर होता है, जैसे कि आपका रूट कैनल कितना गहरा और कितना लंबा होता है,  या फिर आप किस अस्पताल से कर रहे हैं आपका रूट कैनल करने वाला डॉक्टर का एक्सपीरियंस कितना बड़ा है उस हिसाब से वह डॉक्टर आपको रूट केनाल की फीस बताता है |

अगर आप सरकारी अस्पताल से करोगे तो यह आपको बिल्कुल भी मुफ्त में या कम से कम पैसों में हो जाता है | और अगर कहीं प्राइवेट हॉस्पिटल से करते हो तो आपको रूट कैनल करने के लिए 20000 तक या 20 हजार के ऊपर तक खर्चा आ सकता है |

2 thoughts on “रूट कैनल ट्रीटमेंट क्या होती है ? क्यों करना चाहिए दांतों की ट्रीटमेंट ?”

  1. Isse Pet me bhi dard hota hai kya Root canal ke hone ke baad?
    Maine kuch websites par padha ki kuch patients ko pet me ya pet ke thoda neeche pain ho sakta hai kuch dino tak kyuki root canal se vein linked hoti hai stomach ki.
    I’m confused now.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *