प्यार होने के बाद कैसे फील होता है

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? भगवान ने जब ये दुनिया बनाई, तो उसके साथ बहुत सारे रिश्तों का भी जन्म हुआ। हर रिश्ते में प्यार, विश्वास और सम्मान की भावना आवश्यक होती हैं। हर रिश्ता इन भावनाओं के बिना अधूरा है। कुछ रिश्ते हमें जन्मजात ही मिलते हैं। जैसे, मां, बाप, भाई, बहन और अन्य कई रिश्ते जैसे चाचा, मामा, मांसी आगे जीवन में जुड़ते चले जाते हैं। कुछ रिश्ते हम खुद चुनते हैं, जैसे दोस्ती! हम शादी के लिए लाइफ पार्टनर भी खुद चुनते हैं।

आज हम बहुत ही इंटरेस्टिंग विषय के बारे में बात करने वाले हैं। मेरे कुछ नौजवान भाई बहन यह ब्लॉग पढ़कर जरूर खुश होंगे। कहते हैं, प्यार यह इस दुनिया की सबसे प्यारी और खास फीलिंग होती है। जो व्यक्ति प्यार करता है, वह इंसान इस बात को समझ सकता है। प्यार एक बहुत ही अच्छा और खूबसूरत एहसास होता है। प्यार कब होता है हम जान ही नहीं पाते। तो आइए जानते हैं, इस प्यार से भरे प्यार की फीलिंग के बारे में।

प्यार होने के लक्षण

प्यार होने के बाद बहुत ही खुशहाल जीवन हो जाता है। प्यार में होने वाले इंसान को हम आसानी से पहचान सकते है। उसकी खुशी उसके चेहरे से छलकती है। तो आइए जानते हैं प्यार होने के लक्षणों के बारे में।

  1. हर पल खुशी- जो इंसान प्यार में होता है, उसे चाहे कुछ भी हो हमेशा खुशी का एहसास होता है। वह जिस के प्यार में होता है, उसे याद करके खुशी महसूस करता है। अपने लवर के साथ बिताए हुए पलों को याद करके उसे खुशी मिलती है। इस हावभाव से साफ पता चलता है कि वह इंसान प्यार में है।
  2. हर तरफ अपने प्यार को देखना- जब इंसान प्यार में होता है, तो उसे हर तरफ, वह जहां भी देखें वहां उसका प्यार नजर आता है। चाहे वह टीवी में कोई सीरियल या फिर मूवी देख रहा हो, तो उसे अपने प्यार की याद आती है और वह बहुत ही खुश हो जाता है।
  3. अपने प्यार के ख्यालों में खो जाना- जब व्यक्ति प्यार करता है तब उसके बाद वह बहुत ही अलग फील करता है। उसके बाद हर एक पल वह खोया खोया हुआ महसूस करता है। चाहे कोई भी सिचुएशन हो प्यार में होने वाला व्यक्ति हमेशा अपने प्यार के ख्यालों में खोया हुआ नजर आता है। कभी कभी तो उसे किसी दूसरे व्यक्ति में भी अपने प्यार का चेहरा नजर आता है। उस समय वह सुध बुध खो बैठता है। जब होश आता है, तो उसे पता चलता है कि यह भ्रम था।
  4. मन करे लवर को बार बार देखूं- इंसान प्यार में होने के बाद उसे ऐसा लगता है कि, बार बार अपने लवर को देखूं और उससे बातें करूं। वह अपने लवर से मिलने के लिए तरसता रहता है। उसे लगता है कि वह उससे मिलने के बाद बहुत खुश होगा। अपने लवर को मिलने का टाइम फिक्स है तो वह उससे मिलने के लिए इंतजार करता रहता है। अपने प्यार से थोड़ी सी भी दूरी वह बर्दाश्त नहीं कर पाता है। उसे लगता है कि अपने प्यार को दिन में 100 बार मिलू और उसके साथ में बहुत अच्छा टाइम स्पेंड करूं।

सच्चा प्यार कैसे होता है

सच्चा प्यार बहुत ही पवित्र होता है। उसमें सच्चाई हो तो वह आखिर तक टिकता है। प्यार करने वाले इंसान को वह अंदर से बदल कर रख देता है। सच्चे प्यार करने वाले इंसान के अंदर एक अलग ही भावना जागृत होती है। वह जिम्मेदारी महसूस करने लगता है, अपने प्यार के प्रति सम्मान महसूस करने लगता है। हमारी संस्कृति में राधा और कृष्ण की प्रेम कहानी बहुत ही प्रसिद्ध है। प्यार करने वाले जोड़े अक्सर राधा कृष्ण के जगह खुद को देखते हैं।

सच्चे प्यार में जो इंसान कसमे वादे लेता है, वह आखिर तक निभाता है। उसे किसी भी प्रमाण की जरूरत नहीं होती है। वह आखिर तक अपने प्यार का साथ देता है। चाहे कितनी भी विपरीत परिस्थिति हो, सच्चा प्यार करने वाला इंसान अपने प्यार का साथ कभी भी नहीं छोड़ता है।

सच्चा प्यार करने वाले लड़के कैसे होते हैं

दोस्तों, कोई भी रिश्ता जोड़ने में बहुत आसान लगता है, लेकिन जब उसे निभाने की बात आती है तब बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। सच्चे प्यार की कहानी भी कुछ ऐसी ही होती हैं। जब कोई लड़का प्यार करता हैं, किसी को पसंद करने लगता हैं; तब नया-नया उस जोड़ें को बहुत अच्छा लगता है। किंतु उसके बाद वह प्यार टिकाने और निभाने  के लिए उन दोनों को बहुत सारी मेहनत करनी पड़ती है। हर हाल में अपने साथी का साथ देना पड़ता है। चाहे खुद के घर से विरोध हो, लवर के घर से विरोध हो; तो ऐसी परिस्थिति में बहुत ही गंभीर रहना पड़ता है। हर विपरीत परिस्थिति में संयम से काम लेना पड़ता है। कहीं भी गड़बड़ी हो जाए तो दोनों को उसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

सच्चा प्यार करने वाला लड़का कभी भी अपने साथी का साथ नहीं छोड़ता है। वह हर हाल में उसके साथ होता है। उसका सम्मान करता है और दुनिया के सामने उसकी बात हक़ से रखता है। सच्चे प्यार में लड़का अपने साथी के साथ में अपने भविष्य की सुंदर दुनिया के सपने सजाता है। उसके साथ बिताए हुए पल का सम्मान रखकर उससे शादी करने की बात सोचता है और उसके साथ सुंदर जीवन बिताने के बारे में सोचता है।

प्यार करने वाले जोड़े केसे होते हैं

दोस्तों, टाइमपास करने के लिए तो कोई भी प्यार कर लेता है। आज कल के लड़के लड़कियां खेल खेल में प्यार का इजहार कर देते है। एक दूसरे के साथ घूमना, फिरना, मूवी देखना यह सब करके थोड़े ही समय में ब्रेक अप करें लेते हैं। एक दूसरे का सम्मान किए बिना सिर्फ दिखावे के लिए प्यार करते हैं। लेकिन सच्चा प्यार करने को बहुत हिम्मत लगती है।

सबसे पहले तो सच्चा प्यार करने की हिम्मत बहुत ही कम जोड़ों में होती है। सच्चा प्यार करने वाले जोड़े बहुत ही हिम्मत वाले होते हैं। वो दुनिया की खोखली धमकियों से डरते नहीं है। उन्हें अपने सच्चे प्यार पर पूरा भरोसा होता है। क्योंकि वह एक दूसरे की पूरी इज्जत करते हैं और साथ ही में अपने प्यार का भी सम्मान करते हैं। अपने परिवार का अगर विरोध हो तो वह उनसे लड़ने के लिए भी तैयार होते हैं। लेकिन वह उनसे लड़ते नहीं हैं, वह उन्हें प्यार से सब समझाते हैं और अपने प्यार का महत्व और सच्चाई उनको बताते हैं।

प्यार होने के बाद कैसे फील होता है
प्यार होने के बाद कैसे फील होता है

तो दोस्तों दुनिया की सबसे बड़ी खुशी प्यार करने के बाद हमें महसूस होती है। अगर वह प्यार सच्चा हो तो वह खुशी हमें जीवन भर प्राप्त हो सकती है अपने जीवनसाथी के रूप में! भगवान ने दिए हुए इस पवित्र रिश्ते को पूरे सम्मान के साथ निभाए और अपने जीवन का जीवनसाथी के साथ में जीवन भर आनंद लेे।। मुझे आशा है कि आज का ये ब्लॉग आप सभी को अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

Leave a Comment

error: Content is protected !!