मेहंदी के गुण उपयोग हिंदी में

Last Updated on

मेहंदी के गुण उपयोग हिंदी में

मेहंदी के गुण

मेहंदी के गुण

मेहंदी का उपयोग केवल हाथ पैरों के श्रृंगार के लिए ही नहीं होता है | बल्कि औषधि के लिए भी किया जाता है| मेहंदी के पत्ते ,फुल  ,बिज सभी का प्रोयोग रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है | मेहंदी के पत्तों में हेन्नो टेनिक अम्ल नामक कषाय पदार्ध, हरे रंग का राल तथा रंजक तत्व पाए जाते हैं| इसके बीजों तथा पुष्पों में सुगंधित  तेल होता है | मेहंदी को व्यवसायिक दृष्टि से भी उगाया जाता है|

मेहंदी एक खुशबूदार पौधा है | इसकी महक वातावरण को शुद्ध करती है | मेहंदी के पत्ते जलन शांत करने वाले उत्तेजक ह्रदय को बल देने वाले ,उल्टी कराने वाले घाव भरने वाले , सिरदर्द , खासी ,जख्म चर्म रोग व मासिक धर्म संबंधी रोगों में लाभदायक  होते  है|

मेहंदी के गुण घरेलू नुख्से :

दाग धब्बे :

यदि शरीर पर कहीं  दाग धब्बे पड़ गए हो तो उस जगह मेहंदी और साबुन पीसकर लेप लगाने से कुछ ही दिनों में दाग मिट जाते है|

खांसी जुकाम :

मेहंदी के पत्तों के रस में शहद मिलाकर लेने से खांसी जुकाम में लाभ होता है|

गांठ :

गांठ या सूजन में मेहंदी के पत्तों को पीसकर उसकी पुल्टिस  बांधने से लाभ होता है|

सफेद बाल :

मेहंदी का तेल लगाने से असमय सफेद हो रहे बालों में लाभ होता है|

दंत रोग :

यदि दातों से खून आता है या मसूड़े  कमजोर हो तो मेहंदी को पानी में उबालकर, ठंडा कर उस से कुल्ला करने से लाभ होता है|

अनिद्रा :

मेहंदी के फूलों को तकिए में भरकर सिर के नीचे लगाने पर नींद अच्छी आती है|

पीलिया :

मेहंदी के पत्तों को कूटकर रात भर पानी में भिगोए| सुबह निथारकर  इस पानी को रोगी को पिलाएं 7 दिन तक सेवन करने से पीलिया के रोगी को लाभ होता है तथा बड़ी हुई तिल्ली भी ठीक हो जाती है|

खूनी दस्त :

मेहंदी के 100  ग्राम बिज कूटकर , देशी  घी में मिलाकर उनकी गोलियां बना ले | सुबह शाम 1-1  गोली ठंडे पानी  से लेने से खूनी दोस्तों में लाभ होता है|

उच्च रक्तदाब :

तलवों तथा हथेलियों पर मेहंदी का लेप लगाने से उच्च रक्तदाब सामान्य हो जाता है|

सिर में जलन :

3 ग्राम में मेहंदी के फूलों का चूर्ण  तथा 2 ग्राम कतीरा मिलाकर रात भर पानी में भिगो दें | सुबह मिश्री मिलाकर कुछ दिनों तक नियमित रूप से पीने से सिर की जलन  शांत होती है|

जलन पर :

यदि शरीर का कोई अंग जल गया हो तो उस जगह में मेहंदी  का लेप लगाने से फफोले नहीं पड़ेंगे तथा जलन दूर होगी|

पथरी :

मेहंदी के पत्तों का स्वाद बना कर गरम-गरम पीने से पथरी बाहर निकल जाती है|

बंद मासिक धर्म:

मेहंदी की छाल का काढ़ा बनाकर उसमें पुराना गुड़ मिलाकर पीने से रुका हुआ मासिक धर्म आसानी से शुरू हो जाता है|

बिवाइयां :

मेहंदी पाउडर में वैसलीन मिलाकर लगाने से फटी हुई बिवाइया ठीक हो जाती है|

The Author

कैसे करे

दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *