Home » फायदे और नुकसान » मटर के फायदे और नुकसान हिंदी में जानकारी

मटर के फायदे और नुकसान हिंदी में जानकारी

मटर के फायदे

मटर के फायदे

मटर के फायदे
मटर के फायदे

मटर की फली , सेम , फ्रेंचबीन के समान ही फली के रूप में सब्जी बनाने के काम आती है | फली के बीच में जो गोल दाना होता है , वही खाने के काम आता है |

मटर कई प्रकार के होते है , किंतु जो मटर खाने में स्वादिष्ट और मीठे होते है वे ही प्रयोग में आते है | मटर को सुखाकर अन्य दालों के सामान ही काम में लाते है |
मटर मधुर , शीतल , वायुवर्धक व दस्तावर होती है | दुर्बलता , रक्त की कमी , सामान्य कमजोरी की स्थिति में मटर अंत्यत उपयोगी है | मटर को गरीब लोगों के लिए पोषक आहार माना गया है | मटर में प्रोटीन मात्रा में होते है |
मटर एक झाड के समान बेल पर पैदा होती है | फली लगने से पूर्व बेल पर सुंदर फूल निकलते है | इसके फूल सफेद तथा सफेद तथा बैंगनी रंग के होते है |इसकी एक फली में कई दाने या बीज होते है |

मटर के फायदे गुण :

  • बादी :
    अदरक और लहसुन के साथ मटर का प्रयोग करने से बादी का कष्ट दूर होता है |
  • आग से जलना :
    हरी मटर पीसकर जले हुए स्थान पर लगाने से जलन शांत होती है |
  • दुर्बलता :
    मटर को सब्जी के रूप में प्रयोग करने से दुर्बलता दूर होती है तथा दुबला-पतला शरीर मोटा होने लगता है |
  • सौंदर्यवर्ध्द्क :
    हरी मटर या सुखी मटर को पीसकर उसमे नींबू का रस मिलाकर उबटन की तरह मसलकर नहाने से शरीर का रंग निखरकर गोरा होता है |
  • चेहरे की क्रांति :
    मटर को भुनकर , संतरे के छिलको के साथ पीसकर कपड़छन कर ले | इसे दूध के साथ लेप बनाकर चेहरे और शरीर पर मले | इससे कांति बढती है तथा शरीर का सौंदर्य निखरता है |
  • कमजोरी :
    घी में मटर भुनकर खाने से कमजोरी व्यक्तियों को लाभ होता है |
  • कब्ज :
    कच्ची मटर खाने से कब्ज दूर होता है |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *