मटर के फायदे और नुकसान हिंदी में जानकारी

, , Leave a comment

Last Updated on

मटर के फायदे

मटर के फायदे
मटर के फायदे

मटर की फली , सेम , फ्रेंचबीन के समान ही फली के रूप में सब्जी बनाने के काम आती है | फली के बीच में जो गोल दाना होता है , वही खाने के काम आता है |

मटर कई प्रकार के होते है , किंतु जो मटर खाने में स्वादिष्ट और मीठे होते है वे ही प्रयोग में आते है | मटर को सुखाकर अन्य दालों के सामान ही काम में लाते है |
मटर मधुर , शीतल , वायुवर्धक व दस्तावर होती है | दुर्बलता , रक्त की कमी , सामान्य कमजोरी की स्थिति में मटर अंत्यत उपयोगी है | मटर को गरीब लोगों के लिए पोषक आहार माना गया है | मटर में प्रोटीन मात्रा में होते है |
मटर एक झाड के समान बेल पर पैदा होती है | फली लगने से पूर्व बेल पर सुंदर फूल निकलते है | इसके फूल सफेद तथा सफेद तथा बैंगनी रंग के होते है |इसकी एक फली में कई दाने या बीज होते है |

मटर के फायदे गुण :

  • बादी :
    अदरक और लहसुन के साथ मटर का प्रयोग करने से बादी का कष्ट दूर होता है |
  • आग से जलना :
    हरी मटर पीसकर जले हुए स्थान पर लगाने से जलन शांत होती है |
  • दुर्बलता :
    मटर को सब्जी के रूप में प्रयोग करने से दुर्बलता दूर होती है तथा दुबला-पतला शरीर मोटा होने लगता है |
  • सौंदर्यवर्ध्द्क :
    हरी मटर या सुखी मटर को पीसकर उसमे नींबू का रस मिलाकर उबटन की तरह मसलकर नहाने से शरीर का रंग निखरकर गोरा होता है |
  • चेहरे की क्रांति :
    मटर को भुनकर , संतरे के छिलको के साथ पीसकर कपड़छन कर ले | इसे दूध के साथ लेप बनाकर चेहरे और शरीर पर मले | इससे कांति बढती है तथा शरीर का सौंदर्य निखरता है |
  • कमजोरी :
    घी में मटर भुनकर खाने से कमजोरी व्यक्तियों को लाभ होता है |
  • कब्ज :
    कच्ची मटर खाने से कब्ज दूर होता है |
 

Leave a Reply