लव मैरिज के जगह अरेंज मैरिज

लव मैरिज के जगह अरेंज मैरिज करना क्यों फायदेमंद होता है ?

Last Updated on

नमस्ते दोस्तों, आज इस लेख के माध्यम से हम आपको लव मैरिज के जगह अरेंज मैरिज करना क्यों अच्छा होता है? इसकी जानकारी देने वाला है। शादी एक अनोखा बंधन है। यह दो लोगों का मिलन है। इसमें सिर्फ दो लोग नहीं बल्कि दो परिवार एक साथ आते हैं, और एक अटूट बंधन में बन जाते हैं। शादी जन्म जन्मांतर का रिश्ता है। भारत में 75% लोग अरेंज मैरिज करने में विश्वास रखते हैं, क्योंकि अरेंज मैरेज में आपकी परिवार जनों की सहमति होती है, और अरेंज मैरिज सब सोच विचार करके करते हैं। उसमें किसी भी तरह की भावनाएं शामिल नहीं होती है, और यदि लव मैरिज की बात करें तो आप किसी अनजान व्यक्ति को अपने जीवन में आता हैं।

हम उनसे बहुत प्यार करते हैं, उनका विश्वास नहीं तोड़ना चाहते हैं, इसके लिए लोग शादी करते हैं। एक अटूट बंधन बन जाते हैं, लेकिन लव मैरिज अरेंज मैरिज दोनों के अपने-अपने फायदे और नुकसान है। यह पूरी तरह से सामने वाले पर निर्भर है, कि वह लव मैरिज अरेंज मैरिज के बारे में क्या सोचता है ? प्रेम विवाह करने के लिए बहुत कम संभावना होती है, कि आपके घरवाले इस बात के लिए राजी हो और यदि आपने उनको राजी भी कर लिया तो भी वह कभी  भी यह शादी के लिए खुश नहीं होते हैं। वह लड़की को स्वीकारते नहीं है, क्योंकि लव मैरिज में कई सारी ऐसी बातें होती है, जो लड़के और लड़की के परिवार वालों को पसंद नहीं होती है। वह यह सोचते हैं, कि समाज क्या बोलेंगे ? लोग क्या बोलेंगे ? लड़की की जाति धर्म, उनका रहन-सहन यह सब बातें देखते हैं। इसलिए परिवार के सदस्य लव मैरिज के लिए राजी नहीं होते हैं। यदि आप लव मैरिज करते हैं, तो उस इंसान को और पहले से जानते हैं।

उसके पसंद नापसंद के बारे में जानते हैं। उसी प्रकार यदि आप अरेंज मैरिज करते हैं तो आपको एक अनजान व्यक्ति से शादी करनी पड़ती है, जिसके बारे में आपको कुछ पता नहीं है। उनको क्या पसंद है ? क्या नहीं पसंद है? सिर्फ आपके घर वाले कोई अच्छा परिवार देखकर आपकी शादी करा देते हैं, और आपको आपका पूरा जीवन ऐसे व्यक्ति के साथ व्यतीत करना होता है, जिसके बारे में आप कुछ भी नहीं जानते हैं। एक तरफ से देखा जाए तो अरेंज मैरिज लकी ड्रा है, लेकिन यदि आप उस व्यक्ति को अच्छे से समझने की कोशिश करो तो है हमारे सफल भी होता है।

लव मैरिज :

लव मैरिज
लव मैरिज

लव मैरिज में हम अपना पार्टनर अपने हिसाब से चुनते हैं, जो व्यक्ति हमें मन से और दिल से अच्छा लगता है। उसका चुनाव हम करते हैं। हम ऐसे अजनबी व्यक्ति को पसंद करने लगते हैं, और जिनकी आदत हमें अच्छी लगने लगती है, फिर हम उसे प्रपोज करते हैं। फीर शादी के लिए राजी करते हैं, और शादी करते हैं, लेकिन उसी के साथ सारी चिंताएं और परेशानियां बढ़ जाते हैं। लव मैरिज में बहुत कम प्रतिशत संभावना होता है, कि आपके घरवाले आपकी लव मैरिज के लिए सम्मति दे। फिर आपको भागकर या फिर उनके बिना इजाजत के शादी करनी पड़ती है। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपके परिवारजनों से आप का नाटक टूट जाता है।

लव मैरिज में परिवार वाले बहुत सारी चीज देखते हैं, जैसे कि रहन-सहन जाति धर्म लोग क्या बोलेंगे ? इन सभी बातों का विचार करके घर वाले लव मैरिज के लिए  सम्मति नहीं रहते हैं। यदि उन्होंने आपके प्रेम के खातिर सहमति भी दे दी, तो वह दिल से खुश नहीं होते हैं। और वह हमेशा आप से दुखी रहते हैं। लव मैरिज में आप एक दूसरे को पहले से जानते हैं, और आपकी एक दूसरे के प्रति बहुत अपेक्षा होती हैं, और जब भी अपेक्षा पूर्ण ना हो, तो एक दूसरे में झगड़ा होने लगता है। यदि आपका झगड़ा होता है, तो आपके परिवारजनों ने भी आपका साथ नहीं देते, क्योंकि वह बोलते हैं कि यहां तुम्हारा ही चुनाव है, अभी तुम ही देखो जो भी है।

लव मैरिज में दोनों ने एक दूसरे को इतना टाइम दिया होता है, की शादी के बाद उनको कुछ अलग नहीं लगता है। और उनकी पसंद नापसंद और हर एक आदत के बारे में मालूम होने की वजह से उनके में हमेशा झगड़ा होने लगता है। लव मैरिज में वाद-विवाद होते लगते है और झगड़ा बढ़ने के कारण रिश्तो में दरार आ जाती है। ऐसे बहुत कम लव मैरिज होती है जो पूरी तरह से सक्सेस होते हैं। लव मैरिज में परिवार जनों की पूरी तरह से संबंधी ना होने की वजह से आपको जिंदगी भर उनके सुनना पड़ता है। और उसी के साथ साथ कई सारी परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है।

अरेंज मैरिज :

अरेंज मैरिज
अरेंज मैरिज

जब हम शादी करते हैं, तो तब हमारे नए जीवन की शुरुआत होती है। हमारा नया सफर शुरू होता है, इसलिए हमारे परिवार जनों को साथ में लेकर चलना बहुत जरूरी है, क्योंकि बिना उनके आशीर्वाद और प्यार की यह सफर पूरा नहीं किया जा सकता है। यदि उनका साथ है, तो हम सब कुछ कर सकते हैं। हमें किसी बात की कमी नहीं होती है। अरेंज मैरिज भावनाओं के बल पर नहीं बल्कि सोच विचार करके किया जाता है। दो परिवार वाले एक दूसरे के बारे में अच्छे से जान पहचान कर शादी कर आते हैं। अरेंज मैरिज में लड़का और लड़की दोनों अनजान होते हैं। उनको उनके एक दूसरे के बारे में कुछ भी पता नहीं होता है।

जैसे ही उनकी पसंद ना पसंद क्या है ? उनका स्वभाव कैसा है ? और यही चीज शादी के बाद पता करने में उनका बहुत समय लग जाता है, और उसी समय वहां कब एक दूसरे से प्यार करने लग जाते हैं, यह पता नहीं लगता है। वह एक दूसरे को जानने की और समझने की कोशिश करते हैं। एक दूसरे की इज्जत करते हैं और सम्मान करते हैं। यदि अरेंज मैरिज हुई आपकी किसी कारण हो सकते हैं पार्टनर से वाद-विवाद या फिर लड़ाई झगड़ा होते हैं, तो आपके परिवार वाले इस मसले को समझाने की कोशिश करते हैं, और आपका साथ देते हैं।आपकी लड़ाई झगड़ा मिटाने की कोशिश करते हैं।

आपको पूरे जीवन भर यहां नहीं सुनना पड़ता है, कि यह लड़की आपकी पसंद की थी, क्योंकि अरेंज मैरिज में लड़की मां बाप की पसंद की होती है। एक तरफ से देखा जाए तो अरेंज मैरिज लकी ड्रा है अगर लगा तो लगा नहीं तो फिर गया हा हा हा… ,लेकिन सही मायने में लव मैरिज करने से कई सारे नुकसान होते हैं। आपके परिवार वालों की सहमति ना होने की वजह से आप में किसी भी तरह का झगड़ा या विवाद होता है, तो वह आगे नहीं आते हैं।

वह आपके पार्टनर को पूरी जिंदगी भर मन से स्वीकार नहीं पाते हैं। अरेंज मैरिज में आपको शादी के बाद आपके पार्टनर के बारे में पता चलता है, कि वह कैसा है?  आपको उन्हें समझने में ही समय चला जाता है, और उसी समय में आपको उनकी आदत हो जाती है। उनकी सारी चीजों के बारे में पता चल जाता है, जैसे उनकी पसंद नापसंद का स्वभाव फिर आप एक दूसरे को समझने लगते हैं। एक दूसरे से प्यार करना लगते हो और एक दूसरे के प्रति आदर और सम्मान करने लगते हैं। इसलिए अरेंज मैरिज लव मैरिज से ज्यादा सफल होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *