हरसिंगार का पौधा पारिजात के लाभ फायदे हिंदी में

0
918
हरसिंगार फूल
हरसिंगार फूल

हरसिंगार का पौधा

हरसिंगार फूल
हरसिंगार फूल 

हरसिंगार फूल को पारिजात का फूल भी केहते है| गृहवाटिका बाग़ – बगीचों या उद्यानों में लगा सफेद पुष्पों वाला झाड़ीदार २५-3० फीट ऊँचा वृक्ष अकस्मात ही मन  मोह लेता है |

हरसिंगार का यह वृक्ष रात की रानी के नाम से भी जाना जाता है , क्योंकि इसके पुष्प रात के समय खिलकर वातावरण को सुगंधित करते है तथा झड़ जाते है | इस वृक्ष की पत्तिया गुडहल के पत्तो की तरह चौड़ी होती है |हरसिंगार का प्रयोग चिकित्सा हेतु भी किया जाता है |

पारिजात के लाभ घरेलू उपाय :

पेट के कीड़े :

बच्चों के पेट में कीड़े होने पर इसके पत्तो के रस में शक्कर मिलाकर पिलाने से कीड़े मल के साथ बाहर निकल जाते है |

कब्ज :

 बच्चों को कब्ज होने पर हरसिंगार पत्तो का स्वरस देने से लाभ होता है |
खाँसी –दमा :

इसकी छाल के चूर्ण को पान में रखकर खाने से खाँसी तथा दमा रोग में लाभ होता है |

सियेटिका :

 हरसिंगार पत्तों का धीमी आंच पर बनाया गया क्वाथ सियेटिका में अंत्यत लाभदायक होता है |

पीलिया :

 इसके पत्तो के स्वरस का सेवन लौह भस्म के साथ करने से पीलिया रोग दूर होता है |

मलेरिया :

 इसके पत्तो के स्वरस के साथ सौंठ , मरीच , पीपल का चूर्ण लेने से मलेरिया में लाभ होता है |

जीर्ण ज्वर :

 इसके -७-८ नरम पत्तो का रस , आद्र्क रस तथा शहद के साथ सेवन करने से जीर्ण ज्वर में लाभ होता है | इस औषधि का सेवन करते समय दूध , घी व शक्कर का अधिक करे |

ह्रदय की दुर्बलता :

हरसिंगार के सफेद फूलों की डंडी अलग करके फूलों से दोगनी पिसी हुई शक्कर मिलाकर शीशी में भरपूर धूप में रख दे | सवा महीने बाद इस गुलचंद की २० ग्राम रोज सुबह खाने से गर्मी में बढ़ी ह्रदय की धडकन दूर होकर ह्रदय शक्तिशाली बनता है |

Previous articleगूलर के फायदे गूलर का फूल का उपयोग हिंदी में
Next articleकनेर का फूल पत्ते के गुण हिंदी में
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here