फंगल इन्फेक्शन के निशान हटाने के घरेलू उपाय

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? फंगल इन्फेक्शन आज के जमाने में बहुत ही आम बात हो गई है। शरीर में कफ और पित्त दोष के कारण फंगल इन्फेक्शन हो सकता है। यह एक त्वचा से संबंधित रोग है। फंगल इंफेक्शन के कारण आपकी त्वचा पर लाल या सफेद चकत्ते पड़ जाते हैं। फंगल इंफेक्शन का आप वक्त पर ही इलाज कर कर ले, वरना भविष्य में इसके बहुत ही खतरनाक परिणाम हो सकते हैं। क्योंकि, यह बीमारी सिर्फ त्वचा तक सीमित नहीं रहती हैं। यह शरीर के हर अंग को प्रभावित करने की क्षमता रखती हैं।

फंगल इंफेक्शन ठीक होने में वक्त लगता है। क्योंकि, ये जो फंगस होती है; उसके गुणधर्म और मानव शरीर के गुणधर्म अलग-अलग होते हैं। इसीलिए, उसके लिए जो दवाइयां दी जाती है; उनका फंगस के ऊपर बहुत ही कम असर होता है। इसीलिए, इस इंफेक्शन को ठीक होने में वक्त लगता है। फंगल इंफेक्शन होने के कारण हमारे शरीर पर चकत्ते पड़ जाते हैं। फंगल इंफेक्शन ठीक होने के बाद भी यह निशान या दाग रह जाते हैं। इन दागों को घरेलू इलाज से भी ठीक किया जा सकता है। अगर यह घरेलू इलाज से ठीक ना हो, तो आप किसी डर्मेटोलॉजिस्ट के पास जाकर इसका इलाज कर सकते हैं। तो दोस्तों, आज जानेंगे फंगल इंफेक्शन के कारण होनेवाले निशान को ठीक करने के कुछ घरेलू उपाय।

फंगल इंफेक्शन के कारण

फंगल इंफेक्शन हो। के कई कारण हो सकते हैं।

  1. आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अगर कमजोर हो, तो भी आप इस इंफेक्शन का शिकार हो सकते हैं।
  2. अगर आप ज्यादा नम या गर्म वातावरण के क्षेत्रों में रहते हैं, तो आपको फंगल इंफेक्शन हो सकता है।
  3. जिस व्यक्ति को पहले से ही फंगल इंफेक्शन हुआ है, उस व्यक्ति के संपर्क में आने से आप भी इस इंफेक्शन से संक्रमित हो सकते हैं।
  4. महिलाओं में हर महीने महावारी आती है। उस समय पैड्स यूज करने से जांघों में इन्फेक्शन होने की संभावना होती है।
  5. अधिक मोटापा और अधिक वजन की वजह से आपके जांघों पर जमे अतिरिक्त चर्बी में ज्यादा नमी पैदा होती है और रगड़ पैदा होती है। इस रगड़ की वजह से आपके स्किन में रैशेज हो जाते हैं और फंगल इंफेक्शन हो सकता है।
  6. अधिक पसीना आना और अपने शरीर की हाइजीन मेंटेन नहीं रखने की वजह से भी फंगल इंफेक्शन हो सकता है।
  7. बारिश के मौसम में हम भिगना पसंद करते हैं। भिगने के बाद में हम अच्छे से शरीर को साफ नहीं करते हैं और शरीर के कुछ अंगों में नमी रह जाती है। ऐसे में उन जगहों पर फंगल इन्फेक्शन होना आम बात है। क्योंकि, वैसे भी बारिश में सर्द और नम मौसम होता है; जो कि फंगल इंफेक्शन को बढ़ावा देता है।

फंगल इंफेक्शन के निशान हटाने के घरेलू उपाय

फंगल इंफेक्शन शरीर के किसी भी अंग पर हो सकता है। फंगल इन्फेक्शन होने के बाद में हमारे त्वचा पर कुछ निशान छोड़ जाता है। यह निशान जल्दी नहीं मिटते हैं। इनको मिटाने के लिए आप घरेलू उपाय ट्राई कर सकते हैं।

  1. एलोवेरा- फंगल इंफेक्शन के निशान हटाने के लिए आप एलोवेरा ट्राई कर सकते हैं। एलोवेरा का फ्रेश पल्प या एलोवेरा जेल जो मार्केट में मिलता है, उसको आप दिन में ३-४ बार प्रभावित त्वचा पर लगाएं। उसको लगाने से त्वचा के निशान मिटने में मदद मिलेगी और त्वचा की नॉर्मल टोन वापस आएगी। एलोवेरा में एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं। एलोवेरा में त्वचा को मॉइश्चराइज करने के गुण पाए जाते हैं। इसीलिए, फंगल इंफेक्शन के निशान होने पर रूखी, सूखी त्वचा में जान डालने के लिए आप इसका उपयोग करें।
  2. हल्दी- हल्दी में औषधि तत्व पाए जाते हैं। हल्दी हमारी त्वचा के लिए भी बहुत ही फायदेमंद साबित हुई है। हल्दी को नारियल तेल में मिलाकर उसका लेप प्रभावित त्वचा पर लगाएं। उससे फंगल इंफेक्शन के निशान मिटने में काफी मदद मिलती है और आपके त्वचा का टोन सुधारने लगता है। हल्दी में एंटीफंगल गुण और एंटीसेप्टिक गुण भी पाए जाते हैं।
  3. सेब का सिरका- सेब के सिरके में एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबियल्स गुण पाए जाते हैं। अध्ययन के अनुसार, सेब का सिरका फंगल इन्फेक्शन को रोकने में भी मददगार साबित हुआ है। एक कटोरी में सेब का सिरका लें और उसमें एक कॉटन बड भिगोकर उसे प्रभावित क्षेत्र पर रखें। ऐसा आप दिन में २-३ बार कर सकते हैं। इससे फंगल इंफेक्शन के निशान मिटने में सहायता मिलेगी।
  4. विटामिन ई- विटामिन ई हमारी त्वचा के लिए बहुत ही गुणकारी होता है। इसीलिए, विटामिन ई युक्त तेल का इस्तेमाल आप फंगल इंफेक्शन के निशान मिटाने के लिए कर सकते हैं। विटामिन ई युक्त तेल जैसे, बदाम का तेल, अवेकैडो ऑयल आदि का प्रयोग आप कर सकते हैं।
  5. नारियल तेल- नारियल तेल में एंटीफंगल तत्व पाए जाते हैं। नारियल तेल एक बहुत ही साधारण सा, लेकिन महत्वपूर्ण उपाय साबित होता है। नारियल तेल को प्रभावित त्वचा पर दिन में २-३ बार लगाएं। इससे फंगल इंफेक्शन के निशान होने की वजह से रूखी, सूखी त्वचा को पोषण प्रदान करता है। नारियल तेल के उपयोग से फंगल इंफेक्शन के निशान हटाने में काफी लाभ मिलता है।
  6. टी ट्री ऑयल- फंगल इंफेक्शन से होनेवाले निशानों को मिटाने के लिए टी ट्री ऑयल को बहुत ही प्रभावी माना गया है। टी ट्री ऑयल या नारियल तेल में किसी भी एसेंशियल ऑयल की २-३ बूंदे मिलाकर इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से काफी लाभ मिल सकता है। इसका प्रयोग आप दिन में एक से दो बार कर सकते हैं।
  7. एसेंशियल ऑयल- एसेंशियल ऑयल जैसे, ऑरेगैनो तेल, लेमनग्रास तेल; आप फंगल इंफेक्शन के निशान मिटाने के लिए इनका उपयोग कर सकते हैं। ऑरेगैनो तेल में किसी भी दूसरे ऑइल्स के मुकाबले एंटीफंगल तत्व ज्यादा मात्रा में मौजूद होते हैं। ऑरेगैनो ऑयल में जैतून के तेल की दो से तीन बूंदे मिलाकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं। अध्ययन के अनुसार, अधिकतर ऑरेगैनो ऑयल का उपयोग फंगल इंफेक्शन की वजह से हुए निशान मिटाने के लिए किया जाता है।

लेमनग्रास ऑइल भी एक एसेंशियल ऑयल है। इसमें भी एंटीफंगल तत्व मौजूद होते हैं। इसके उपयोग से कई प्रकार के फंगल इंफेक्शन को रोकने में काफी हद तक मदद मिलती है। लेमनग्रास ऑयल को नारियल तेल के साथ मिलाकर कॉटन बड्स से प्रभावित त्वचा पर लगाएं। इसका प्रयोग दिन में १-२ बार कर सकते हैं। इससे आपके त्वचा के टोन में सुधार आएगी और दाग धब्बे कम होने में मदद मिलेगी।

फंगल इन्फेक्शन के निशान हटाने के घरेलू उपाय
फंगल इन्फेक्शन के निशान हटाने के घरेलू उपाय

अगर, आप के त्वचा पर भी फंगल इंफेक्शन की वजह से कुछ निशान हो गए हो; तो आप इन घरेलू इलाजो का उपयोग कर सकते हैं। अगर घरेलू इलाज के बाद भी यह समस्या ठीक ना हो, तो आप तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह लें। क्योंकि, डॉक्टर की सलाह लेना किसी भी हाल में उचित ही होता है। उम्मीद है, आपको आज का यह ब्लॉग “फंगल इन्फेक्शन के निशान हटाने के घरेलू उपाय” अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

Leave a Comment

error: Content is protected !!