इलायची के गुण फायदे हिंदी में जानकारी

Last Updated on

इलायची के गुण फायदे

इलायची के गुण

इलायची के गुण

छोटी इलाइची के गुण हिंदी में जानकारी आज हम आपको बताने वाले है |

इलाइची से कौन परिचित नही है , इसका उपयोग स्वागत-सत्कार लौंग-सुपारी के साथ किया जाता है| पान का जायका तो इसके बिना अधूरा-सा है | इसका उपयोग व्यंजनों व घरेलू औषधि के रूप में भी किया जाता है| यह दो प्रकार की होती है-छोटी और बड़ी छोटी इलायची जिसे हरी इलायची भी कहते है|

 शीतल, हलकी,श्वास ,खाँसी, मूत्र की रुकावट दूर करने वाली ,त्रीदोनाशक, अग्निवर्द्धक, दुर्गंधनाशक होती है| बड़ी इलायची वातकारक, गरम, रुखी, रक्तविकार, खुजली, प्यास, सिरदर्द, उल्टी, खाँसी, वात, प्यास लगना रोगों को दूर करती है|

इलायची के घरेलू उपाय:

मुंह के छाले :

इलायची में कूटकर पानी में उबालकर इसके गरारे करने से मुंह के छाले ठीक हो जाते है|

प्रमेह :

छोटी इलायची का दाना, नागौरी असगंध, तज कलमी, साख , बड़ी इलायची , तालमखाना समभाग लेकर बारीक पीस ले| सुबह 10 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से प्रेमह रोग में लाभ होता है|

उल्टी :

एक कप पानी में 10 इलायची डालकर आग पर 5-10 मिनिट उबाले | ठंडा होने पर शक्कर मिलाकर पीने से उल्टी व जी मचलना रुक जाता है|

अफरा :

आधा ग्राम छोटी इलायची के दानों का चूर्ण, एक रत्ती भुनी हुई हिंग मिलाकर 2 बूंद नींबू का रस डालकर सुबह-शाम लेने से पेट फूलना ,गैस व अफरा मिट जाते है|

स्वप्नदोष :

छोटी इलायची, वंशलोचन, मुल्तानी मिटटी 10-10 ग्राम व बंगभस्म 5 ग्राम सबको अलग-अलग पीसकर 2-3 बार छान ले| आधा चम्मच चूर्ण सुबह और रात को आंवले के पानी के साथ लेने से स्वप्नदोष होना बंद हो जाता है| तथा वीर्य गाढ़ा हो जाता है|

जीभ के छाले :

छोटी इलायची व फुलाई हुई फिटकरी समभाग लेकर पीस ले| इस चूर्ण को जीभ पर लागकर लार टपकाने से छाले मिट जाते है|

नकसीर :

एक बताशे में 2 बुँदे इलायची का अर्क टपकाकर 3-3 घंटे में खाने से नाक से खून गिरना बंद हो जाता है|

अजीर्ण :

केला खाने के बाद इलायची खाने से अजीर्ण मिट जाता है|

मुंह की दुर्गंध :

इलायची चूसने से मुंह की दुर्गंध देय होती है|

The Author

कैसे करे

दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *