दिमागी बुखार का घरेलु उपाय
दिमागी बुखार का घरेलु उपाय

Last Updated on

दिमागी बुखार उपचार

दिमागी बुखार का घरेलु उपाय
दिमागी बुखार का घरेलु उपाय

मस्तिष्क ज्वर एक जानलेवा रोग है, जिसका कारण ग्रुप बी अरबो वायरस होता है| यह रोग मच्छरो के काटने से फैलता है|

इसको उत्पन्न करने वाला विषाणु मुख्यतः जानवरों में पाया जाता है|

मच्छर जब इन जानवरों का खून चूसने के लिए इन्हें काटते है तो यह वायरस मच्छरों के जरिये पेट में पहुच जाता है और वहां फले फूलते है|

ये मच्छर जब मनुष्य को काटते है तो ये वायरस मनुष्य के शरीर में पहुच जाते है और रोग उत्पन्न करते है|

दिमागी बुखार के लक्षण :

मस्तिष्क ज्वर के रोगी को काफी तेज बुखार अता है, ऐसे में बहुत ठंड भी लगती है| साथ ही उसे सीर दर्द और गर्दन में दर्द होता है|

जिन रोगियों में मस्तिष्क और उसकी झिल्ली भी संक्रमित हो जाती है| उन्हें मिर्गी जैसा दौरा पड सकता है|

समय समय पर बीमारी के बढ़ने के साथ-साथ रोगी की हालत बिगड़ जाती है और वह अचेतन अवस्था में चला जाता है,

अंत में रोगी की मृत्यु हो जाती है| बड़ो की अपेक्षा बच्चे इस रोग के जादा शिकार होते है|

दिमागी बुखार से बचाव :

 इस रोग से बचाव ही इस रोग का इलाज है| इस रोग से बचने के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है की मच्छरो का नियंत्रण करना |

मच्छरदानी का प्रयोग करे| इस रोग से बचने के लिए रोग रक्षक टिके भी लगाये जाते है|

टिके सात से चौदा दिन के अंतर पर लगाए जाते है|तिन साल के बाद इन तिको को दुबारा लगाया जाता है|

जिन लोगो को यह रोग होने की संभावना होती है इन्हें यह टिके लगाये जाते है|

रोग का पता लगते ही योग्य चिकित्सक से इलाज कराए| यह एक संक्रामक रोग है| परुंतु इसपर नियंत्रण पाया जा सकता है|

गिलोय, अदरक, इलायची,लौंग तथा तुलसी का काढ़ा बनाकर नित्य सुबह सेवन करे  तो इस बुखार से बचा जा सकता है| यह रोग प्रतिरोधक शक्ति बढाता है|

वायरल फीवर बुखार का उपचार लक्षण.

काली खांसी के घरेलु आयुर्वेदिक उपाय हिंदी में.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here