बहती नाक को रोकने के उपाय

बहती नाक को रोकने के उपाय

नमस्ते दोस्तों, आज हम आपको बहती नाक को रोकने के उपाय बताने वाले हैं | देखा जाए तो नाक बहना बहुत ही आम है | लेकिन जब यह समस्या बढ़ती ही जाती है तब मनुष्य को बहुत सारी परेशानी का सामना करना पड़ता है, जब किसी को सर्दी होती है तब वह मनुष्य सर्दी पर उपचार लेने के लिए डॉक्टर के पास जाता है | डॉक्टर इंजेक्शन और मेडिसिन देकर सर्दी कम करने की कोशिश करता है, लेकिन कुछ फर्क नहीं पड़ता है |

बहती नाक को रोकने के उपाय
बहती नाक को रोकने के उपाय

साइंटिफिकली देखा जाए तो जब हमें पहली बार सर्दी होती है तब हमने थोड़े दिनों तक नाक बहने देना चाहिए | नाक लगातार बहने से हमारे शरीर में जो भी चिपचिपा पदार्थ होता है वह बाहर निकल जाता है, जिसके कारण वायुमार्गो में बलगम की मात्रा कम हो जाती है | वायुमार्ग में अगर बलगम की मात्रा बढ़ जाती है तो नाक बिल्कुल जाम हो जाता है जिसके कारण नाक बहने की समस्या ज्यादा होती है | जिन लोगों को जुकाम या फ्लू होता है उन लोगों को यह समस्या ज्यादा आती है, अगर आपके गले में अतिरिक्त बलगम है तो यह अंदर जाने की संभावना होती है | बलगम गले के अंदर जाने से गले में दर्द या खांसी हो सकती है, इसलिए नाक बहना जल्द से जल्द कम करने के तरीके आज हम आपको बताने वाले हैं | नाक बहना यह शरीर की अंदरूनी समस्याओं में से एक है, इसलिए इस समस्या को नजरअंदाज ना करें | आज हम देखेंगे बहती नाक को रोकने के उपाय |

बहती नाक को रोकने के उपाय -:

नाक बहने के लक्षण -:

नाक बहने के लक्षण
नाक बहने के लक्षण
  • अक्सर हम देखते हैं कि जिन लोगों का नाक बहता है उन लोगों को यह समस्या होने के साथ-साथ अन्य भी बीमारियां होती है | जैसे कि बहती नाक के अलावा बुखार आना, ठंड लगना, छाती में दर्द, सांस लेने में कठिनाई, सिर में दर्द, गर्दन में दर्द, ऐसे दर्द होते हैं | यह सारी समस्या बिल्कुल असामान्य है, इसलिए यह सारी बीमारियां अगर बहुत ज्यादा बढ़ती है तो किसी एक्सपर्ट से संपर्क करना जरूरी है | नाक जब बहने लगता है तब मनुष्य के आंखों के नीचे बिल्कुल सूजन आ जाती है जिसके कारण मनुष्य सामने वाले चीजों को ठीक तरह से देख नहीं पाता है |
  • कई बार नाक बहने के कारण गले में सूजन आती है, गले में सूजन आने के कारण मरीज को कोई भी चीज खाने की इच्छा नहीं होती है | गले के अंदर के हिस्से में सफेद या पीले धब्बे दिखाई देते हैं जिसे हम टॉन्सिल्स आना भी कहते हैं | जिन लोगों के नाक से निकलने वाले पदार्थो की तेज बदबू आती है उन लोगों ने समझ जाना है कि यह बीमारी आपके शरीर में जड़ फ़ैल रही है | नाक बहने के साथ-साथ गले से पीला और धुंधला सफेद रंग का बलगम आता है तो भी यह खांसी आने का लक्षण है | यह सारे लक्षण अगर १५ दिनों तक लगातार दीखते हैं तो आपने समझ जाना है कि आपको नाक बहने की समस्या आई हे |

नाक बहने के कारण क्या है -:

नाक बहने के कारण क्या है
नाक बहने के कारण क्या है
  • जिन लोगों को जुकाम या फ्लू होता है, और जिन लोगों को यह समस्या ज्यादा आती है तब आप किसी अन्य बीमारी से गुजरते हो तब आपके शरीर में बलगम की मात्रा अधिक पैदा होती है | जिसके कारण आपके शरीर में बैक्टीरिया बिल्कुल रोके नहीं जाते हैं और आपको नाक बहने की समस्या का सामना करना पड़ता है | शरीर में जब बैक्टीरिया निकलने के लिए जगह नहीं होती है तब नाक से यह बैक्टीरिया निकलने की कोशिश करते हैं |
  • बहुत सारे लोगों को किसी ना किसी चीज की एलर्जी होती है, बहुत सारे लोगों को तो किसी चीज को खाने से या किसी पदार्थों को छूने से सर्दी होती है | अगर आपको भी ऐसा होता है तो आपने समझ जाना है कि आपको एलर्जी है | जिन लोगों के घर पर पशु होते हैं उन पशु के बालों से भी एलर्जी होती है | मनुष्य का शरीर एलर्जी के पदार्थों से बहुत प्रतिकार करता है, लेकिन हमारा शरीर जब रीस्पोंस करना बंद करता है तब यह सारी बीमारियां मनुष्य को होती है |
  • अगर आपके नाक के वायु मार्ग में सूजन या जलन होती है तो आपने समझ जाना है कि आपको साइनसाइटिस रोग हुआ हे | यह सारे नाक बहने के कारण हे |

नाक बहने से बचाव कैसे करें -:

नाक बहने से बचाव कैसे करें
नाक बहने से बचाव कैसे करें
  • दोस्तों अगर आपको लगता है कि आपको यह समस्या कभी भी नहीं आनी चाहिए तो आपने खुद के शरीर की निगाह रखना बहुत ज्यादा जरूरी होता है | जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या होती है उन लोगों को सिर दर्द होने के साथ-साथ नाक बहने की समस्या ज्यादा होती है | इसलिए आपने माइग्रेन पर जल्द से जल्द इलाज करना जरूरी होता है, जो लोग हमेशा तंबाकू या धूम्रपान का सेवन करते हैं उन लोगों को धुम्रपान की एलर्जी होती है |
  • जो लोग बार-बार धुम्रपान करते हैं उन्हें सर्दी होती है, इसलिए ऐसी चीजों को बिल्कुल ना खाएं जिससे आपको नाक बहने की समस्या आएगी | नाक बहने की समस्या ना आने के लिए आपने हमेशा अपने हाथों को साफ रखना चाहिए, क्योंकि हमारे हाथों पर विभिन्न प्रकार के कीटाणु होते हैं जिसके कारण भी शरीर में रोग फैलते हैं |
  • नाक बहने के दौरान टिशू का या कपड़े का प्रयोग हमेशा करें जिससे यह समस्या किसी और को नहीं होगी और आपका नाक हमेशा बहता रहेगा | जिसके कारण आपके शरीर में बैक्टेरिया नहीं रहेंगे, सर्दी जुकाम को रोकने के लिए आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हो या विटामिन सी का इस्तेमाल अपने भोजन में कर सकते हो |
  • विटामिन सी सर्दी-जुकाम खत्म करने के लिए बहुत ही उपयोगी होता है, जिन लोगों को त्वचा की एलर्जी होती है उन लोगों को भी यह समस्या ज्यादा होती है | इसलिए त्वचा की एलर्जी की टेस्ट करें जिससे खून की जांच और थूंक की जांच भी हो जाएगी और एलर्जी क्यों होती है यह हमें समझ जाएगा | ऐसी छोटी-छोटी बातों को करने से आपको पता चलता है कि आपको यह बीमारी बार-बार क्यों होती है |

नाक बहने का इलाज -:

नाक बहने का इलाज
नाक बहने का इलाज
  • ठंड के दिनों में ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए, हर किसी का शरीर अलग-अलग होता है | अगर आपके दोस्त को ठंडी चीजें खाने से सर्दी जुखाम नहीं होता है तो आपने भी ठंडी चीजों का सेवन करना ही चाहिए ऐसा नहीं होता है | क्योंकि आपका शरीर अलग होता है, ठंड के दिनों में ठंडी चीजों का सेवन करने से आपको जुकाम भी हो सकता है |
  • बहुत समय से अगर नाक लगातार बहता है तो आपने इस दौरान अत्यधिक मात्रा में तरल पदार्थ पीना चाहिए जिससे आपके नाक को और आपके गले को खूब आराम मिलेगा | कई बार जुकाम और फ्लू वायरस के कारण मनुष्य बिलकुल थका हुआ रहता हैं, इसलिए एंटीबायोटिक दवाइयां खाने से इस बीमारी पर आप उपचार नहीं कर पाते हो |क्योंकि यह सारी बीमारी बैक्टीरिया के वजह से ही होती है, इसलिए  सर्दी जुकाम कम करने के लिए अच्छे तरीके अपनाना जरूरी है |
  • नीलगिरी का तेल नाक बहने की समस्या का घरेलू उपचार है, रात को सोने से पहले गर्म पानी में नीलगिरी तेल थोड़ी मात्रा में डालकर इस पानी से भाप लें | नीलगिरी के तेल की मदद से बहती नाक की समस्या  बिल्कुल कम हो जाती है | नीलगिरी तेल के साथ-साथ आपने विटामिन सी की मेडिसिन खानी चाहिए, जुकाम और फ्लू को ठीक करने के लिए विटामिन सी काफी फायदेमंद होता है |
  • अगर आप विटामिन सी का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हो तो आपने संतरे और नींबू का सेवन ज्यादा करना चाहिए, नाक बहते समय बाहर जाते वक्त मुंह पर रुमाल का इस्तेमाल करें जिससे आपके नाक में गंदगी, बैक्टीरिया, पोलुटेन्ट पार्टीकल, नहीं जाएंगे |
  • सर्दी जुकाम होने पर ज्यादा से ज्यादा बेड रेस्ट लेने की कोशिश करें,अगर आप दिनभर किसी ना किसी काम में बिजी रहोगे तो यह बीमारी आना असंभव बनेगा | इसलिए दो-तीन दिनों की छुट्टी लेकर बेड रेस्ट लेना जरूरी है, यह समस्या अगर बहुत बढ़ेगी तो इससे आपके पूरे शरीर पर गलत परिणाम होगा | इसलिए समय बीतने से पहले इस समस्या का निवारण करना जरूरी है |

यह थे बहती नाक को रोकने के उपाय | दोस्तों अगर आपको हमें कोई सवाल पूछना है तो आप हमें नीचे दिए गए हुए कमेंट बॉक्स में पूछ सकती हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!