अतिबला (खिरैटी) के फायदे

0
1083
अतिबला (खिरैटी)
अतिबला (खिरैटी)

अतिबला (खिरैटी) के फायदे

अतिबला (खिरैटी)
अतिबला (खिरैटी)

इसे खिरैटी या खरेटी भी कहा जाता है | यह  वाजीकारक एवं पौष्टिक गुणों के साथ अन्य गुण रखने वाली जड़ी बूटी है | यह चार प्रकार की होती है-  बला ,अतिबला , नागबला और महाबला | मुख्यता किस की जड़ और बीज को ही उपयोग में लिया जाता है | शारीरिक दुर्बलता, प्रमेह , शुक्रमेह, रक्तपित्त, प्रदर , वर्ण, सुजाक ह्रदय की दुर्बलता, सिर दर्द आदि रोगों को दूर करता है |

अतिबला के घरेलू उपाय :

गांठ या अनपके फोड़े :

अतिबला के कोमल पत्तों को पीसकर इसकी पुल्टीस बाँधकर ऊपर पानी के छींटे मारते रहे | इस से गांठ या फोड़ा बिना चीरा लगाए पककर फूट जाता है |

दुर्बलता :

आधा चम्मच अतिबला की जड़ का बारीक चूर्ण सुबह-शाम मीठे दूध के साथ लेने से शरीर का दुबलापन दूर हो जाता है |

खुनी बवासीर :

अतिबला के पंचांग को मोटा कूठकर उसका चूर्ण बना लें | सुबह शाम 10 ग्राम चूर्ण एक गिलास पानी में उबालें | चौथाई पानी रहे हो जाए तब उतारकर  छान दें | ठंडा करके पानी को एक कप दूध में मिलाकर पीने से शीघ्र खुनी बवासीर लाभ होता है |

स्वरभेद :

आधा चम्मच गुलाब की जड़ का चूर्ण ,शहद में मिलाकर सुबह-शाम चाटने से आवाज ठीक हो जाती है |

तृषा:

बला की जड़ का काढ़ा आदर्श 10 ग्राम पीने से तृषा शांत होती है |

शुक्रमेह :

बला की ताजा जड़ 6 ग्राम , एक कप पानी के साथ घोटकर वो छानकर सुबह खाली पेट पीने से लाभ होता है |

श्वेत प्रदर :

बला के बीजों का बारीक चूर्ण ,एक चम्मच सुबह शाम शहद में मिलाकर लेने से तथा ऊपर से मीठा दूध पीने से श्वेत प्रदर रोग ठीक हो जाता है |

दाह :

अतिबला की छाल का रस निकालकर शरीर पर लेप करने से  जलन कम हो जाती है|

बिच्छू दंश :

बला के पत्तों का रस बिच्छू द्वारा काटी गई जगहों पर लगाकर मसलने से दर्द दूर हो जाता है|

पीपली के फायदे हिंदी में.

निशोथ का उपयोग हिंदी में.

Previous articleपीपली के फायदे हिंदी में
Next articleमूंग दाल के फायदे हिंदी में
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here