अरहर दाल के फायदे हिंदी में

Must read
कैसे करे
कैसे करे
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

अरहर दाल के फायदे

अरहर दाल के फायदे
अरहर दाल के फायदे

अरहर की दाल  के दोषों को खुश्क ,कफ और पित्त के दोषों को शांत करने वाली होती है| यह रुचिकर, ज्वरनाशक तथा पित्तदोष आदि रोगों को दूर करने वाली होती है|

अरहर दाल के घरेलू उपाय :

भांग का नशा :

अरहर की दाल को पानी में भिगोकर पीसकर वह छानकर पिलाने से भांग का नशा उतर जाता है|

आधासिस  का दर्द ;

अरहर के पत्तो का रस व दूब का रस समभाग मिलाकर नस्य देने से आधासीसी का दर्द शांत हो जाता है|

सुजन :

अरहर की दाल को पीसकर उसकी पुल्टिस बांधने से सूजन उतर जाती है|

खुजली :

अरहर के पत्तों को दही के साथ पीसकर खुजली वाले स्थान पर लगाने से खुजली ठीक हो जाती है|

अफीम का विष :

अरहर के पत्तों का रस बार-बार पिलाने से  अफीम का विष उतर जाता है|

आँख की फुंसी :

अरहर की दाल को पानी के साथ दिन में दो -तीन बार आँख की फुंसी पर लगाने से फुंसी बैठ जाती है|

खाँसी का इलाज:

अरहर के पत्ते और मिश्री की डली एक साथ मुंह में रखकर चबाने से खांसी में लाभ होता है|

 घाव को भरने के लिए :

अरहर के पत्तों को पीसकर कटे घाव पर बांधने से घाव ठीक हो जाता है|

मुंह के छाले का इलाज:

अरहर के कोमल पत्ते चबाने से मुंह के छाले मिट जाते हैं|

रक्तप्रदर रोग :

दो तोला अरहर के पत्तों को पानी के साथ पीसकर उसे 15 तोला पानी में घोलकर पीने से एक ही खुराक में रक्त प्रदर में लाभ होता  हे|

हिचकी बंद करने के लिए :

अरहर भूसी तंबाकू की तरह चिलम मिलाकर पीने से लाभ होता है|

कट जाने पर :

चाकू  आदि से कट जाने पर अरहर की पत्तियों को बिना पानी के पीसकर कटे स्थान पर लेप लगाने से रक्त बहना बंद हो जाता है तथा घाव भी भर जाता है|

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी जानकारी :
error: Content is protected !!