Home कैसे करे हिन्दी में एनीमिया खून की कमी के लक्षण उपाय

एनीमिया खून की कमी के लक्षण उपाय

एनीमिया

एनीमिया के कारण लक्षण
एनीमिया के कारण लक्षण

खून की कमी के कारण :

  • एनीमिया से पीड़ित  होने का मुख्य कारण कुपोषन होता है|
  • हम जो भोजन करते है, उसका उर्जा की दृष्टी से पर्याप्त तथा संतुलित  होना जरुरी है|
  • जिसमे कार्बोज, प्रोटीन, चर्बी के साथ–साथ विटामिन्स एव खनिज होता है|
  • एनीमिया की दृष्टी से भोजन में लोह के तत्व की मांग दैनिक जरुरत से कम हो जाती है, तब उसमे लोहअल्पता से पैदा एनीमिया देखने को मिलता है|
  • इसी तरह जब भोजन में विटामिन बी-१२ तथा फोलेट की कमी होती है, तब भी खून की कमी को देखने को मिलता है|
  • शरीर को लोह तत्व की उपलब्धता दो स्त्रोतों से होती है|
  • एक स्त्रोत तो मासाहार है, दूसरा शाकाहार है यानि अनाज, तेल, फलिया, सूखे मेवे, गुड इत्यादी|
  • एनीमिया का कारण भोजन में फोलेट की कमी होती है|
  • इसकी कमी से बच्चा पैदा करने की क्षमता का ह्रास तक हो सकता है|यह स्त्री-पुरुष दोनों में हो सकती है|
  • खून की कमी होने का तीसरा कारन विटामिन बी-१२ की कमी होती है|
  • गौरतलब है की फौलिक एसिड के साथ इसकी जुगलबंदी रहती है|
  • शरीर में दो मिग्रा का भण्डारण जिगर में होता है और इतना ही अन्यत्र होता है|
  • यह शरीर की १ से 3 साल की जरुरत हेतु पर्याप्त होता है | इसलिए आमतौर पर इसकी कमी देखने को नहीं मिलती है|

खून की कमी के लक्षण :

  • ह्रदय में धड़कन, चक्कर आना, सिर  घूमना, सिर दर्द, चिडचिडापन, भूख न लगना, शरीर का पीलापन, बदन में सुजन, हाथ-पैरो में झनझनाहट या सुन्न होना, सिने में दर्द इत्यादी लक्षण हो सकते है|
  • इसके अतिरिक्त विभिन्न प्रकार के एनीमिया में रक्त में हिमोग्लोबिन की कमी इस रोग के लक्षण है|
  • मुख्य रूप से आयरन की कमी, एनीमिया होने का सबसे प्रमुख कारन है|
  • हिमोग्लोबिन के निर्माण के लिए लौह खनिज आवशयक है, जो की भोजन  से लगातार शरीर को मिलना चाहिए|
  • भोजन में पर्याप्त मात्रा में आयरन न होने या आँतो द्वारा आयरन के अवशोषण के व्यवधान के कारन एनीमिया होना एक आम बात है|
  • शरीर की आयरन की पूर्ति मुख्य रूप से हरी पत्तेदार सब्जियों से होती है|
  • यदि नियमित रूप से इनका सेवन करे तो एनीमिया से बचा जा सकता है|

एनीमिया का घरेलू इलाज:

  • खून की कमी के बचाव के लिए संतुलित व पौष्टिक भोजन लेने की जरुरत है|
  • दूध, दही, फल, हरी पत्ती वाली सब्जी, दाले, मक्खन, दलीया का सेवन करना उत्तम रहता है|
  • यदि मासाहारी है, तो मास, मछली, अंडे का सेवन किया जा सकता है|
  • इसके लिए सूखे मेवे, मूंगफली, पनीर एव अंकुरित दाल आदी अवश्य सेवन करे|

वायरल फीवर बुखार का उपचार लक्षण.

तेल मालिश मसाज करने का सही तरीका और इसके लाभ हिंदी में जानकारी.

कैसे करे
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सपने में कार देखना इसका मतलब क्या है ? Sapne Mein Car

सपने में कार देखना इस सपने का सपना फल अगर आप जानने का प्रयास कर रहे हो, तो आप सही जगह पर आए हो...

सपने में दूध देखना इसका मतलब क्या है ? Sapne Mein Doodh

सपने में दूध देखना इस सपना फल के बारे में आज के इस लेख में हम जानकारी देने वाले हैं | स्वप्न शास्त्र में...

सपने में बाइक देखना इसका मतलब क्या है ? Sapne Mein Bike

सपने में बाइक देखना ऐसा सपना अक्सर नौजवान युवकों का आता है और यह सपना उन्हें अपनी जिंदगी में क्या होने वाला है ?...

चूत चाटने के फायदे क्या होते है ? चूत चाटने की विधि के साथ

आज हम आपको महिलाओं की चूत चाटने के फायदे बताने वाले हैं | आज हम आपसे कुछ ऐसे विषय पर बात करने वाले हैं,...